बुधवार, 12 अक्तूबर 2011

एक चिंताग्रस्त महिला डोक्टर के पास जाती है: 'डॉक्टर, मुझे एक प्रॉब्लम है, और आपकी मदद चाहिए! मेरा बच्चा अभी एक साल का भी नहीं हुआ और मै फिरसे pregnant हूँ. I don't want kids so close together.

तब डोक्टर पूछता है: 'ठीक है, तो मै क्या कर सकता हूँ आपके लिए?'

महिला: 'मै चाहती हूँ के आप मेरी प्रेगनेंसी रोक दो.. मै आपकी शुक्रगुज़ार रहूंगी.'

डोक्टर ने थोड़ी देर सोचा और कुछ देर शांत रहने के बाद उसने महिला से कहा: 'मेरेपास इस से अच्छा solution है आपकी प्रॉब्लम के लिए. जिसमे आपको खतरा भी कम है.'

वो मुस्कुराई, उसे लगा के डोक्टर उसका काम कर ही देगा अब.

डोक्टर बोला: "देखो जैसे तुमने कहा की तुम एक समय पर दो बच्चो की देखभाल नहीं कर सकती, तो वही बच्चा मार देते है जो अभी तुम्हारे पास है. इस तरह तुम्हे  दूसरा बच्चा पैदा होने से पहले 
आराम और वक्त भी मिल जायेगा. अगर हमें दोनों में से किसी को मारना ही है तो क्या फर्क पड़ता है 'पहला या दूसरा' से."

महिला थोड़ी घबराई और बोली: "नहीं डोक्टर, कितना भयानक है ऐसा करना.'I agree',"

डोक्टर बोला. "लेकिन तुम तोह कुछ ऐसे ही कह रही थी, इसलिए मैंने सोचा की यही बेहतर उपाय होगा."

डोक्टर हसा, उसने उसकी बात समझा दी थी. उसने उस माँ को इस बात से सहमत कराया था की , "पैदा बच्चे को मरना और पैदा होनेवाले बच्चे को मरना इसमें कोई फर्क नहीं है. The crime is the same!

अगर आप इस बात से सहमत है तो please SHARE करे.

हम सब मिल कर कई महत्वपूर्ण जिन्दगिया बचा सकते है!

अंत में "प्यार माने खुदकी ज़िन्दगी दुसरो के हित के लिए sacrifice करना"

Abortion माने किसी और की ज़िन्दगी अपने हित के लिए sacrifice करना..

3 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत अच्छी पोस्ट है। अमरजीत जी कहां हैं आप?

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्छी पोस्ट है। अमरजीत जी कहां हैं आप?

    उत्तर देंहटाएं