शुक्रवार, 12 नवंबर 2010

उफ़ ये रियेलिटी शो

आजकल छोटे परदे पर रियेलिटी शो की बाढ़ सी आ गयी है, और ये अपने नित नए कारनामो की वजह से चर्चा भी बटोर रहे है! कारनामे भी देखिये एक से बढ़कर एक, कही छोटे परदे की न्यायधीश राखी सावंत लोगो के झगडे निपटा रही है, तो कही बिग बॉस शादी ब्याह कराने का काम कर रहे है, कोई चैनल करोडपति बना रहा है!
क्या राखी का इंसाफ ,राखी का स्वंयवर, राहुल का स्वयंवर, द परफेक्ट ब्राइड, इस जंगल से मुझे बचाओ,सच का सामना और कामेडी शो के नाम पर जो संस्कार घर घर में प्रस्तुत किये जा रहे है क्या उन पर कोई लगाम नहीं लगाई जा सकती क्या बड़े परदे की तरह छोटे परदे के लिए भी कोई सेंसर बोर्ड नहीं बनाया जा सकता! प्रतिज्ञा, पवित्र रिश्ता, तेरे लिए, साथिया जैसे सीरियल कुछ समय तक तो सही दिशा में चले पर सीरियल बनाने वालो ने इसे लम्बा खीचने के लिए ऐसे ऐसे कारनामे प्रारम्भ किये की उनसे प्रेरित होकर घर घर में स्त्री पुरुष के रिश्तो में दरार उत्पन्न होने लगी! अब राखी सावंत को ही लीजिये उसके बोलने का ढंग कपडे पहनने का तरीका निम्न स्तरीय है वह छोटे परदे पर न्यायधीश बन फैसले कर रही है! हद तो तब हो गयी जब उसने शो उपस्थित एक व्यक्ति को नामर्द कह दिया! इस शर्मनाक वाक्ये से उस व्यक्ति ने ख़ुदकुशी कर ली! बिग बॉस में सारा खान के विवाह को प्रचारित कर सुर्खिया बटोरी, तो पाकिस्तानी कलाकार के टावेल सरकने को लेकर TRP बढाई गयी! ऐसे ऐसे विवादित लोगो को सेलिब्रिटी बनाया जाता है जिससे की ज्यादा से ज्यादा शुर्खिया बटोरी जा सके! आतंकवादी कसाब की पैरवी करने वाले वकील, आतंकवादी हेडली से सम्पर्क रखने वाल व्यक्ति, राहुल महाजन जैसे लोगो को हमारे चैनलों ने सेलिब्रिटी बना दिया! लाफ्टर शो में जिस तरह के फूहड़ किस्से सुनाये जाते है वह तो अश्लीलता की सभी सीमाए पार कर चूका है! ऐसे में छोटे परदे के दर्शक देखे तो क्या देखे! समाचार चैनल भी इन रियेलिटी शो की TRP बढ़ाने में सहायक हो रहे है तभी तो समाचारों के बीच बीच में लगभग सभी समाचार चैनल इन विवादित अंशो को दिखाकर कही न कही सहयोग कर रहे है! खैर यह सब तो चलता रहेगा, आगे देखते है की आने वाले समय में ये चैनल क्या नया कारनामा करते है ................... 

30 टिप्‍पणियां:

  1. ये रियलिटी शो सबसे ज्यादा अनरियल है. इनको बड़े प्यार से दो जूते पड़ने चाहिए. और राखी सावंत का क्या कहे जब कोई नंगी पर उतारूहोता है तो उससे तो खुदाई भी परेशान हो जाती है
    अमरजीत जी आपका मै तहेदिल से स्वागत और अभिनन्दन करता हूँ की आपने मेरा हौसला बढाया. आप जैसे दोस्तों का साथ मिले तो मै ब्लाग जगत की ओवरहालिंग कर दू.
    धन्यवाद
    जो बोले सो निहाल
    .......सतश्री अकाल

    उत्तर देंहटाएं
  2. .

    टीवी पर आने वाले ९० फीसदी प्रोग्राम काफी निराशाजनक हैं। घटिया और फूहड़ किस्म की लोकप्रियता खरीदी जा रही है। इससे पता चल रहाहै , हमारे गिरते हुए नैतिक मूल्यों का। जो समझदार हैं, उनका कुछ नहीं बिगड़ेगा , लेकिन युवा पीढ़ी इसके नकारात्मक प्रभावों से बच नहीं पाएगी।

    .

    उत्तर देंहटाएं
  3. पवन जी सही कहा आपने नंगो से तो खुदा भी डरता है !
    पवन जी चंद ऐसे सिरफिरे लोग है जिनकी वजह से ब्लॉग जगत में बे फिजूल की विवाद भी प्रारम्भ हो गए है! आप सही दिशा में चल रहे है, कृपया अपने अभियान को विराम नहीं दीजियेगा! हमारा साथ हर कदम पर आपके साथ होगा !


    दिव्या जी आज की युवा पीढ़ी को नकारात्मक प्रभावों से बचाने कुछ तो सोचना होगा !आपने अपने विचार रखे आपका धन्यवाद !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. bahut hee jawlant prsan uthaya hai aapne...reyaltee show ke nam par bahut kuchh asahaj cheeje prosee jaa rahee hai..

    उत्तर देंहटाएं
  5. अमर जी मै आपकी बात से असहमत नही ,बहुत महत्तवपूर्ण विषय का जिक्र किया आपने किन्तु सिर्फ दशा के वर्णन से कुछ नही होने वाला । आखिर हम आप भी तो जिम्मेदार है इस तरह के सीरियलों के टी आर पी बढाने के लिये ।
    आज भी इस भीड में दूरदर्शन ने कही हद तक इस नग्ननता को नही अपनाया है । एक और चैनल "सब" का भी मै जिक्र करूँगी । इस पर आने वाले प्रोग्राम्स अच्छे है । तय तो हमको और आपको ही करना है कि हम किसको बढावा दे ।
    और रही बात बुराई की तो वो तो सतयुग में भी थी मगर तब ही राम की सार्थकता सिद्र होती है ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. विजय जी आपसे एक बात पूँछ्ना चाहती हूँ कि क्या यदे कोई आपको कहे कि ये जहर है खा लीजिये तो क्या आप खाओगे , यदि नही तो फिर हमारी ऐसी क्या मजबूरी के हम जहरीले संस्कारो को अपनाये ??
    उम्मीद है आप हमको अपने विचारों से अवगत करायेंगें

    उत्तर देंहटाएं
  7. Hi,
    My hindi isnt as bright ..so please allow me to comment. First, felt great to read an honest , selfless effort in this blog, please keep it up ...
    Second, media worldwide (prime time entertainment) is all about emotional hijacking and intellactual bankruptcy, it is in the west , we are just following them blindly ....I hope Rakhi Sawant finds a Pakistani husband and settles there ...
    Third, You make Chhabras proud :)

    उत्तर देंहटाएं
  8. विजय जी सही कहा आपने वास्तव में रियलिटी शो के जरिये बहुत सी ऐसी चीजे परोसी जा रही है जो की समाज के लिए घातक है!

    उत्तर देंहटाएं
  9. पलाश जी आपने कहा की सिर्फ दशा का वर्णन करने से कुछ नहीं होता किन्तु पलाश जी यदि ज्वलंत मुद्दो पर हम और आप चिंतन नहीं करेंगे तो क्या इन विषयो को भगवान भरोसे रख दे ! आज ऐसे कितने चैनल है जिनमे साफ सुथरे कार्यक्रम दिखाए जाते है एक या दो और बाकी के चैनल जिनकी संख्या शायद आप भी नहीं बता सकती अनगिनत है !आपने सतयुग का उल्लेख किया भगवान राम की सार्थकता का उल्लेख किया किन्तु सतयुग में ही बुराइया समाप्त नहीं हो गयी द्धापर युग,त्रेता युग में भी बुराइया रही है और हर युग में बुराई को विरोध हुवा है !अब अगर कलयुग में भी इस तरह की बुराइयों का विरोध करना पड़े तो मेरे हिसाब से हमें विरोध करना चाहिए! और विरोध के अनेको तरीके है लिख कर जागरूकता फैलाकर या आपके हिसाब से ऐसे चैनलों का बहिष्कार कर के जो भी हो विरोध तो करना चाहिए !

    उत्तर देंहटाएं
  10. रियलिटी शो क्या मैं तो टी.वी. भी नहीं देख पाती. मगर हाँ इस तरह के प्रोग्रामों के बारे में सुना है. एक -दो बार देखने का मौका मिला भी है. सच कहिये ये सिर्फ कूड़ा फैला रहे है. और जिनका असर बच्चों और स्कूल-कॉलेज के छात्रों में देखा जा सकता है. सास-बहु वाले सीरियल, और बाल विवाह पर कई सीरियल और तो और एक इमोशनल अत्याचार करके भी कोई सीरियल था जिनके एक-दो एपिसोड मैंने देखे थे अपने एक मित्र के कहने पर, जिन्हें देख के सोचने में मजबूर हो जाते है कि इन्हें देख के क्या हम कभी भी आगे बढ़ सकते है क्या? बहुत ही सही मुद्दा उठाया है आपने. हम सबको इस पर सिर्फ सोचना ही नहीं कुछ ठोस कदम उठाने भी चाहिये.

    उत्तर देंहटाएं
  11. ये सिर्फ कूड़ा फैला रहे है..तय तो हमको और आपको ही करना है कि हम किसको बढावा दे...

    उत्तर देंहटाएं
  12. ab kya kahein ??? jyada se jyada hum yahi kar sakte hain ki na dekhein....subah shaam masale ki talaash bhi to humi ko rehti hai |
    palaash ji ne sahi kaha agar koi cheej gandi hai to hum dekhein hi kyun ...aisa nahi ki tv par sirf faaltu prograam hi aate hain....
    kayi saare aise channel hain jo acche program dikhate hain..unhein dekhiye aur baaki ko bhul jayiye...
    1> news ke liye DD news
    2> dharawahik ke liye SAB tv
    3> filmo ke liye ZEE classic,
    etc...
    main to reality show ke naam par kewal sa re ga ma pa dekhta hoon....aur sab tv par aane waale prograam aap sapariwaar baith kar dekh sakte hain ...

    उत्तर देंहटाएं
  13. gandagi sab jagah hai , dekhkar chalna hamari zimmedari hai...

    उत्तर देंहटाएं
  14. Zyadater karykram siva foohadta aur behudapan ke siva kuchh nahin paros rahe hain.... achha vishay hai.... hame sach me vichar karne ki zaroorat hai....

    उत्तर देंहटाएं
  15. अमर जी आप अभियान चलाये , हम हर कदम पर साथ है ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. सही कहा आपने, रिअलिटी शो न जाने क्या हो गए हैं... पर हम एक रास्ता चुन सकते हैं, उन्हें न देखकर या उन्हें avoid करके खुद को उस गन्दगी से दूर रख सकते हैं... परन्तु आपने बहुत ही अच्छा लिखा है...

    उत्तर देंहटाएं
  17. वंदना जी,रजनीश जी,शेखर जी,मोनिका जी,पलाश जी,पूजा जी आप सभी का धन्यवाद इस ज्वलंत विषय के चिंतन में सहभागी बने है!
    एक दशक पहले टेलीविजन के सुबह के कार्यक्रम में योगाभ्यास,राग,संगीत,प्रार्थना और प्रवचन आदि होते थे!आज हमारे दिन की शुरुआत बिग बॉस का रिप्ले और अश्लील कपडे पहने लोगो को कामेडी करते देखते हुए होती है!जिस कार्यक्रम में सांस्कृतिक मूल्य जितने कम होते है उसकी टीआरपी उतनी अधिक होती है!ऐसे में इसके बहिष्कार की बात कहना बेमानी होगा!कुछ ठोस कदम उठाने होंगे!आइपीसी में व्यापक हस्तछेप की गुंजाइश है इसका सबसे आसन तरीका है की किसी टीवी के कार्यक्रम को टेप कर लिया जाय और फिर उसमे से कुछ खास दृश्यों को परिवारजनों के लिए अश्लील बताते हुए स्थानीय पुलिस में शिकायत दर्ज की जाय !

    उत्तर देंहटाएं
  18. अमरजीत जी मैं तो टी वी बहुत कम देखती हूँ .....
    आपने बताया तो ही पता चला ....
    राखी सावंत को तो बोलने की भी तमीज़ नहीं ....
    वो क्या फैसले करेगी ....
    बहरहाल आपने अच्छी खिंचाई की ......!!

    उत्तर देंहटाएं
  19. एक अच्छा मुद्दा उठाया है...सच यही हो रहा है चारों तरफ और तो और आज कल एक प्रोग.और चल पढ़ा है इमोशनल अत्याचार जिसे आज के टीनेजर बच्चे देखते है...तो सोच सकते हैं क्या चलता होगा उनके दिमाग में.

    उत्तर देंहटाएं
  20. amarjeet jee, mudda gambheer hai, khaas taur par tab jab Rakhi sawant jaisi phuhad aur kamakl aurat nyay jaise gambhher muddo ke sath ched-chad kare...awaz uthana jaruri ho gaya hai.

    उत्तर देंहटाएं
  21. प्रियंका जी,
    हरकीरत जी,
    अनामिका जी,
    अनु जी
    आप सभी का धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  22. Bhai saheb Rakhi sawant ko bich mein rakh Har channelwalle shoharat aur paisa kama rahein hAI.PURI JANATA KO BEOKOOE BANA RAHEIN HAI.pLZ,VISIT MYBLOG

    उत्तर देंहटाएं
  23. पता नहीं इन रिअलिटी शोज़ में कितना रीअल होता है .... इन्हें अगर देखना हो तो दिमाग अलग से रख दो और फिर देखो ... :)

    उत्तर देंहटाएं
  24. टीवी पर अधिकांश प्रोग्राम फूहड व निराशाजनक है, मात्र धनजनित लोकप्रियता की लोलूपता में नई पीढी को जहरीली लोलीपोप थमा रहे है।

    उत्तर देंहटाएं
  25. सोच रही हूँ क्या लिखूं. सब कुछ तो सभी ने लिख दिया. आपके ब्लॉग पर आकार बहुत अच्छा लगा. चलिए भगवान ने कुछ तो सुन ली आपकी रखी सावंत को कुछ तो झटका लगा

    उत्तर देंहटाएं
  26. प्रेम जी,
    क्षितिज जी,
    हंस राज जी,
    आप सभी का धन्यवाद!!
    रचना जी आपने आपकी राखी सावंत कहा वाह भई वाह मुझे नहीं पता था !

    उत्तर देंहटाएं
  27. अमरजीत जी अब तो लगता है कि टीवी अब इन्हीं प्रोग्रामों को ही एक्मात्र मनोरंजन का साधन बना लेंगे.

    उत्तर देंहटाएं
  28. आपने एक्दम सही बात लिखी है. अब तो इंतजार करके देखते है कि आगे क्या होता है.

    उत्तर देंहटाएं